लोकपाल बिल के खिलाफ फिर आ रहे है हम: अन्ना हजारे

किसान बाबूराव हज़ारे (अन्ना हजारे) एक ऐसा नाम जिसे किसी भी पहचान की जरुरत नहीं है. देश में से भरष्टाचार भागने की मुहीम में अपनी पूरी ज़िन्दगी देने वाले एक महान व्यक्ति. १६ अगस्त २०११ में अनशन पे बैठ कर हमारे लिए लोकपाल बिल की मांग की और भर्ष्टाचार से देश को मुकत कराने में बहुत बड़ा योगदान है इन्होने अकेले ही सभी सरकारों को हिला दिया था.

“में भी अन्ना तू भी अन्ना अब तो सारा देश है अन्ना” ये नारे लगते लगते सारा देश इनके साथ जुड़ गया और इसीलिए वापस आ रहे है हमारे हज़ारे साहब फिर से नरेंद्र मोदी की सर्कार से ये पूछने के तीन सालों में भी लोकपाल क्यों नहीं ला सके सरकार क्या रहा सरकार की असफतला का कारन.

Image Courtesy by Google

हज़ारे जी अगले साल जनुअरी में या फेब्रुअरी के पहले सप्ताह में नयी दिल्ली में फिर से ये मुहीम चालु करने आ रहे है, मोदी जी की सर्कार के खिलाफ. परन्तु अभी कोई भी तारीख तय नहीं हो पायी है. ये मुहीम भारत देश में से करप्शन को दूर करने ke लिए की जायेगी.

रायपुर में पहले श्री हज़ारे जी ने कहा था के उनका ये आंदोलन किसी भी पार्टी या किसी नेता के खिलाफ नहीं है ये सिर्फ देश के लिए है पर 2 अक्टूबर को उन्होंने मोदी जी और उनके पूर्व साथी दिल्ली के सी एम् अरविन्द केजरीवाल दोनों को कटघरे में उतरने के लिए सोच लिया है.

उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा है के में केजरीवाल से दूरी ही बना के रखूँगा साथ ही किरण बेदी, वि के सिंह इन सबसे जो राजनीती में घुसने के बाद इस मुहीम को भूल गए है.

श्री हज़ारे जी पिछले एक साल से मोदी जी पे वार कर रहे है वो सिर्फ इसीलिए के उन्होंने बहुत बारी मोदी जी से इन सब चीज़ों के लिए पुछा पर कोई भी जवाब नहीं मिल पाया है. मोदी जी के प्रधान मंत्री बनने से पहले जो वादा किया था के हर भारत वर्षी के खाते में 15 लाख रुपया आएंगे और जो लोकपाल बिल आएगा वो कहा है .

In case, you’d like to contribute an article to Crack IAS Exam, mail us info@crackiasexam.com

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Overall student article rating is 4.9 out of 5.0 for Crack IAS Exam by 1000+ students on overall india